कुल पेज दृश्य

रविवार, 27 सितंबर 2015

Graund Rules तीसरा नियम

   तीसरा नियम                                                                                 
खुलकर हकलाओ और इस बात को छुपाने का प्रयास मत करो कि मैं हकलाता हूँ ; - इस बात को सामने लाये कि आप हकलाते हैं, क्योंकि  इस बात से कोई फायदा नहीं है। कि हम अपने आप को एक सामान्य व्यवित की तरह बोलने वाला समझते रहें। हकलाहट को छिपाने का प्रयत्न हमारी बस एक ही प्रकार से सहायता कर सकता हैं ,इसे बढ़ाकर। जिन लोगों से आप बात करते हों उनसे बता ओ कि हम  हकलाते हैं और आसानी के साथ अपनी इच्छा से हकलाये इससे आपकी शर्म कम होगी जो आपके लिए बहुत तकलीफ देती है। यदि  हकलाने वालाव्यवित यह स्वीकार कर ले कि यह हकलाता है तो इससे उसके अंदर शर्म की भावना कम होने के साथ ही साथ उसका बात करने का आत्मविश्वास बढ़ेगा। यह नियम अपने जीवन से उतारना इतना आसान नहीं हैं लेकिन धीरे - धीरे यह हमारे अंदर के डर को खत्म कर देगा।  अपनी हकलाहट को कम करने के लिए तकनीकों का खुल कर इस्तेमाल करें। इस नियम का मुख्य उददेश्य यह है कि यह आपके मानसिक तनाव को सहने की योग्यता को बढ़ाता है और आपके अन्दर आत्म विश्वास बढ़ता है। जानबूझकर हकलाने की वजह से आप अनियंत्रित हकलाहट को नियंत्रित हकलाहट में बदल सकते है।                                                                                                                                           

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें